Follow by Email

Sunday, February 12, 2012

अगले जनम मोहे बिटिया ही कीजो

बाबुल मैं तेरे आँगन की भोर ,
मेरी साँझ की चिंता मत कीजियो ,
जीवन दिया है मेरे तन को ,
जी भर के मन को सांस भी लेने दीजियो ,
बाबुल मैं तेरे आँगन की कोयल ,
कुहुक में विदाई का गीत मत भर दीजियो ,
लक्ष्मी हूँ सरस्वती के स्वर से 
मेरे मन मंदिर को सुर दीजियो ,
बाबुल मैं तेरे घर की सोन चिरैया 
पराया धन कह कर मोहे 
एक क़ैद न दीजियो ,
कौन देश भी जाऊं
तेरा मोह न बिसर पाऊ
एक बार तो मोहे कलेजा का टुकड़ा समझ कर
सीने से लगने दीजियो ,
बाबुल मैं तेरे जीवन की डोर
पराये हांथों की पतंग मत कीजियो ,